मंगलवार, 10 अप्रैल 2012

हिन्दी साहित्य पहेली 76 के हल हेतु संकेत

हिन्दी साहित्य पहेली 76 के हल हेतु संकेत

प्रिय पाठकगण
इस बार की हिन्दी साहित्य पहेली को हल करने का मंत्र गूगल बाबा के पास उपब्ध हो सकता था परन्तु इस पहेली के जारी होने के बाद अब तक चौबीस घंटे हो चुके हैं परन्तु किसी भी पाठक का सही हल प्राप्त नहीं हो सका है इसलिये पहेली के सही हल हेतु आपको बहुबिकल्पीय संकेत देना चाहता हूँ जो इस प्रकार है

(1)पहेली में पूछे गये पद्यांश के मूल लेखक निम्नलिखित तीन में से ही कोई एक है
1 हरिवंशराय बच्चन जी
2 उमर ख़ैयाम जी
3 सुमित्रानंदन पंत जी

(2)और पहेली में पूछे गये पद्यांश के अनुवादक निम्नलिखित तीन में से ही कोई एक है

1 सूर्यकांत त्रिपाठी "निराला" जी
2 सुमित्रानंदन पंत जी
3 उमर ख़ैयाम जी

(3)और जिस पुस्तक से इस अंश को लिया गया है वह पुस्तक भी निम्नलिखित तीन में से ही कोई एक है
1 मधुशाला
2 मिलन यामिनी
3 मधुज्वाल

मेरा विश्वास है कि अब तक यह दोनो संकेत आपको पहेली के हल तक पहुंचने में सहायक हो चुका होगा सो देर किस बात की तुरंत अपना उत्तर भेजें ताकि कोई और आपसे पहले उत्तर देकर इस पहेली का विजेता न बन बैठै।
अग्रिम शुभकामनाओं सहित

1 टिप्पणी:

  1. उम्र खैयाम की रुबाइयों का सुमित्रानंदन पन्त जी के द्वारा 'मधुज्वाल' नामक पुस्तक में अनुवाद किया गया ! ये दोनों ही पद्यांश मधुज्वाल से उद्धृत हैं !

    उत्तर देंहटाएं

आप सभी प्रतिभागियों की टिप्पणियां पहेली का परिणाम घोषित होने पर एक साथ प्रदर्शित की जायेगीं