मंगलवार, 30 अगस्त 2011

पहेली संख्या-४३ का सही परिणाम और विजेता ER. सत्यम शिवम् जी

प्रिय  चिट्ठाकारों ,
     पहेली संख्या -४३ का सही उत्तर है -
   ''भगवती चरण वर्मा ''और ये पंक्तियाँ ली गयी हैं -उनके उपन्यास ''चित्रलेखा'' से .
   और सही उत्तर सर्वप्रथम भेजकर विजेता बने हैं-
श्री सत्यम  शिवम् जी 
सत्यम जी विजेता बनने पर आपको हमारी हार्दिक शुभकामनायें-

और उपविजेता बनी हैं-
सुश्री साधना वैद जी
साधना जी लगातार तीसरी बार उपविजेता बनने आपको हम सभी की ओर से बहुत बहुत शुभकामनायें
आप दोनों को हिंदी साहित्य पहेली में पूरे उत्साह से भाग लेने हेतु बहुत बहुत धन्यवाद्.
और अंत में ऐसी शानदार ज्ञानवर्धक प्रस्तुति के लिए डॉ.अशोक शुक्ल जी का हार्दिक धन्यवाद्

शालिनी कौशिक  






4 टिप्‍पणियां:

  1. तीसरी बार उपविजेता बनने की प्रसन्नता है मुझे भी ! शुभकामना के लिये आपका धन्यवाद ! यदि आप अन्यथा ना लें तो एक सुझाव है ! आप इस पहेली के प्रसारण का तथा इसका हल बताने का दिन और समय निश्चित कर दीजिए ! यह किसी दिन बिलकुल सुबह प्रसारित कर दी जाती है कभी मध्यान्ह में तो कभी किसी और समय ! प्रतिभागियों को जब यह ज्ञात होगा कि एक निश्चित दिन निश्चित समय पर प्रतियोगिता का प्रश्न पूछा जायेगा तो इसमें उनकी सहभागिता बढ़ेगी ! पहेली का सर्वशुद्ध उत्तर तो कई पाठक बता देते हैं विजेता होने का गौरव उसे ही मिलता है जो सबसे पहले बताता है इसके लिये समय का सुनिश्चित किया जाना बहुत ज़रूरी है ! वरना आजकल सबकी दिनचर्या इतनी व्यस्त रहती है कि हर समय कम्प्यूटर खोल कर कौन बैठ सकता है ! आशा है आप मेरे सुझाव पर विचार अवश्य करेंगी !

    उत्तर देंहटाएं
  2. आदरणीय सत्यम शिवम जी को विजेता बनने की हार्दिक बधाई। साधना वैद दी मैं समझ नहीं पा रहा हूँ कि आपको बधाई दूँ या उलाहना । काश! आप इस बार भी उत्तर देने मे थोडी सी तत्परता दिखातीं तो .... बहरहाल कोई बात नहीं मेरी शुभकामनाऐं अगली पहेली के लिये आपके साथ अभी से हैं गुड लक

    उत्तर देंहटाएं
  3. अशोक जी चिंता न कीजिये ! मुझे आपके उलाहने से भी कोई गुरेज़ नहीं है और आपकी प्रशंसा पर भी कोई आपत्ति नहीं है ! मुझे विजेता ना बन पाने का कोई मलाल नहीं है ! विजेता श्री श्याम सुन्दर जी, श्री दर्शन लाल बवेजा जी व श्री सत्यम शिवम जी को मेरी हार्दिक शुभकामनायें व बधाइयाँ हैं ! और उनके विजेता बनने की भी मुझे उतनी ही प्रसन्नता है जितनी अपने उपविजेता बनने की क्योंकि ज्ञान के सन्दर्भ में सभी समान स्तर पर हैं बस कम्प्यूटर का बटन किसने पहले दबाया इसीका थोड़ा सा अंतर है और यह अंतर किसीके लिये भी मलाल का कारण ना बने इसीलिये मैंने सुझाव दिया था कि पहेली के प्रसारण का दिन व समय निश्चित कर दिया जायेगा तो लोगों की रूचि और सहभागिता इसमें बढ़ेगी ! आपकी प्रतिक्रिया के लिये धन्यवाद !

    उत्तर देंहटाएं

आप सभी प्रतिभागियों की टिप्पणियां पहेली का परिणाम घोषित होने पर एक साथ प्रदर्शित की जायेगीं