सोमवार, 24 सितंबर 2012

हिन्दी साहित्य की शतकीय पहेली 100 सभी सम्मानित प्रतिभागियों को बधाई

प्रिय पाठकगण तथा चिट्ठाकारों,


आज की हिन्दी साहित्य पहेली सौवीं पहेली है। ।
पहेलियों की यह शतकीय यात्रा इसमें प्रतिभाग करने वाले सम्मानित पाठकों और प्रतिभागियों के बगैर संभव नहीं हो सकती थी अतः आज की हिन्दी साहित्य पहेली की इस शतकीय यात्रा को इसमें प्रतिभाग करने वाले समस्त सम्मानित प्रतिभागियों को समर्पित करते हुये कुछ ऐसे सवाल हैं जो आपको इस समूची पहेली के पुनरावलोक हेतु बाध्य कर सकते है।

पुनः आप सभी सम्मानित पाठकों और प्रतिभागियों का आभार व्यक्त करते हुये प्रस्तुत हैं इस पहेली के चार सवालः-

1.हिन्दी साहित्य पहेली का प्रथम विजेता कौन था?

2.हिन्दी साहित्य पहेली के उस पहले विजेता का नाम बताऐं जो इसकी अर्धशतकीय पहेली (50वीं पहेली) आने तक कभी विजेता अथवा उपविजेता नहीं रहे ?

3.एक ऐसी हिन्दी साहित्य पहेली भी पूछी गयी थी जिसके जारी होने से उसके विजेताओं की घोषणा होने तक पहेली में सम्मिलित साहित्यकार को सर्वोच्च हिन्दी सम्मान से सम्मानित किया गया था, आपको इस पहेली को पहचान कर इसके विजेता का नाम बताना है?

और एक आसान सा सवाल
4.कौन सी हिन्दी साहित्य पहेली में पूछा गया प्रश्न पहेली संख्या 1 में पूछे गये प्रश्न की पुनरावृति था?

इन प्रश्नों के हल हेतु इस पहेली में कोई संकेत नहीं, आपको बस इतना करना है कि पुरानी पहेलियों को टटोलना होगा और अपने उत्तर भेजने होंगे।
तो फिर देर किस बात की तत्काल अपना उत्तर भेजें ताकि कोई और आपसे पहले पहेली का उत्तर भेजकर पहेली का विजेता न बन जाय।

शुभकामनाओं सहित

5 टिप्‍पणियां:

  1. १ माननीय डॉ. रूपचंद शास्त्री जी
    बाकी उत्तर अगली टिप्पणियों में

    उत्तर देंहटाएं
  2. २ का उत्तर
    श्री केवल रामजी
    बाकी प्रश्नों का उत्तर अगली टिप्पणियों में
    कोई इनाम भी है का अंतर्जाल के फूल ही दोगे शुक्ल जी

    उत्तर देंहटाएं
  3. ३ श्रीलाल जी शुक्ल

    अगली टिप्पणी ने प्रश्न ४ का जवाब

    उत्तर देंहटाएं
  4. ४ का उत्तर : हिन्दी साहित्य पहेली 85 हिन्दी की पहली आत्मकथा का लेखक कौन है?

    इनाम की तयारी कर ली है जी
    क्या दोगे हा हा

    उत्तर देंहटाएं
  5. उत्तर
    उत्तर -१ श्री रूप चन्द्र शास्त्री मयंक
    उत्तर -२ श्री केवल राम जी
    उत्तर -३ श्री लाल शुक्ल जी
    उत्तर -४ पहेली संख्या ८५

    मेरे ख्याल से गलती की कोई गुंजाइश होनी तो नहीं चाहिए
    कल उत्तर देने के बाद पढ़ा कि अभी तक उत्तर नहीं प्राप्त हुए हैं इस लिए चारों उत्तर साथ में दे रहां हूँ अबकी बार

    उत्तर देंहटाएं

आप सभी प्रतिभागियों की टिप्पणियां पहेली का परिणाम घोषित होने पर एक साथ प्रदर्शित की जायेगीं