मंगलवार, 20 मार्च 2012

हिंदी साहित्य पहेली 73 का परिणाम और विजेता श्री यशवंत माथुर जी

प्रिय पाठकजन एवं चिट्ठाकारों

पहेली संख्या 73 में आपको पता लगाना है आपको पता लगाना था कि ये चार पक्तियां किसी एक गजल के ही दो शेर हैं या दो अलग अलग गजलों के दो पृथक पृथक शेर है।
संकेत के रूप में यह बताया गया था कि इन शेरो के रचयिता हिन्दी साहित्य जगत की अमूल्य धरोहर है। इसका सही उत्तर है की ये दो अलग अलग गजलों के दो पृथक पृथक शेर है और इन्हें लिखने वाली महान हस्तिया है


अपना ग़म लेके कही और न जाया जाए

घर में बिखरी हुई चीज़ों को सजाया जाए

- निदा फ़ाज़ली




अब तो मजहब कोई ऐसा चलाया जाए

जिसमें इंसान को इंसान बनाया जाए

- नीरज


और अब आते हैं परिणाम पर
इस बार पुनः सबसे पहले सही उत्तर भेजकर विजेता के पद पर विराजमान हुये हैं श्री यशवंत माथुर जी

और थोडे से बिलम्ब के साथ सही उत्तर देकर प्रथम उपविजेता पद पर विराजमान हुई हैं सुश्री ऋता शेखर ‘मधु’ जी


इस बार पहेली में एक प्रतिभागी के रूप में शामिल होकर पहेली का आधा सही उत्तर देकर साहित्यिक अभिरुचि प्रदर्शित करने के कारण विशिस्ट विजेता बने हैं आदरणीय श्री दर्शन लाल जी बावेजा जी


आप सभी विजेता, उपविजेता तथा विशिस्ट विजेतागण को हार्दिक बधाई

4 टिप्‍पणियां:

  1. आप सभी विजेता, उपविजेता तथा विशिस्ट विजेतागण को हार्दिक बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  2. धन्यवाद!
    आ. ऋता जी एवं दर्शन सर को भी हार्दिक बधाई!

    सादर

    उत्तर देंहटाएं
  3. हार्दिक बधाई यशवंत जी व एनी उपविजेताओं को भी बधाई !

    उत्तर देंहटाएं

आप सभी प्रतिभागियों की टिप्पणियां पहेली का परिणाम घोषित होने पर एक साथ प्रदर्शित की जायेगीं